rediff.com

Archive

Archive for the ‘Sands Behind’ Category

a little me

January 20th, 2011 No comments

Hi,

I am starting to loose track of time. I knew it is january, but 20th! I was not too sure with that. Got some free time today. A few cups of coffee and a few lines of poetry. A bit of smiles and a bit of travel. A few moments to remember who I am, where I am. Though, these days I write more then anything else. ( apart from doing my work).
Just wish to rest a bit.
Take sometime out and have a cup of coffee.

Categories: Blogs, Sands Behind Tags:

जवाबों से दूर

January 11th, 2011 No comments
मैं कौन हूँ,
है किस मोड़ पर समंदर,
पूछ न मुझसे,
मैं खुद अब रास्तों को नही पहचानता|
किस मोड़ पर हूँ खड़ा,
किस ज़मीन पर हैं मेरे कदम,
किस ओर है मंज़िल  का सफ़र,
पूछ न मुझसे,
मैं खुद अब रास्तों को नही पहचानता|
लेकिन अगर बाँटने की है हसरत,
कुछ पल, और कुछ खुशियाँ,
हाँ, तो मैं तैयार हूँ,
मेरे बस्तो में भरी 
हर मुस्कुराहट का तू हकदार है
लेकिन कोई सवाल ना करना,
मैं हूँ बेख़बर,
पूछ न मुझसे,
मैं खुद अब रास्तों को नही पहचानता|
….अपूर्व
जवाबों से दूर

Categories: Navi shuruat, Poetry, Sands Behind Tags:
Copyright © 2014 Rediff.com India Limited. All rights Reserved.  
Terms of Use  |   Disclaimer  |   Feedback  |   Advertise with us