rediff.com

—– |-| —–

August 8th, 2011 by Khyati Shah Leave a reply »

भीतर इतना अँधेरा क्यूँ है ?
उदासी का यहाँ डेरा क्यूँ है ?
उजाले की चाह में खुद को जलती हूँ
घर में सम्शान का बसेरा क्यूँ है ?

~ख्याति

Advertisement

Leave a Reply

You must be logged in to post a comment.
Copyright © 2015 Rediff.com India Limited. All rights Reserved.  
Terms of Use  |   Disclaimer  |   Feedback  |   Advertise with us