rediff.com

Categories

A sample text widget

Etiam pulvinar consectetur dolor sed malesuada. Ut convallis euismod dolor nec pretium. Nunc ut tristique massa.

Nam sodales mi vitae dolor ullamcorper et vulputate enim accumsan. Morbi orci magna, tincidunt vitae molestie nec, molestie at mi. Nulla nulla lorem, suscipit in posuere in, interdum non magna.

अहसास


http://datastore.rediff.com/h5000-w5000/thumb/596764705B5E6771/zl7uk57ymdanzy88.D.0.mount14_1600x1200.jpgअहसास 


कुछ भाव ह्रदय में बसते हैं 


जो बेहद कोमल होते हैं


अधरों पे जब ख़ामोशी हो 


तब आँखे बोला करती हैं


कहना चाहे जब बाते मन 


वो मन में ही रह जाती हैं 


अपने ही दर्द में जी कर के


अक्सर खुद से लड़ पड़ती हैं


 


कुछ अंतर्मन की पीडाएं 


अपने ही संग तो बांटे थे


मुश्किल बस इतनी सी ही थी


खुद अपनेआप  समझ सके


 


काँटों की चुभन से वाकिफ़ हैं 


फूलों का कभी पता चला


जो दामन में भर के आये  


संग जीने की आदत सी है
अपनी ही व्यथा में क्यों उलझे
जब दर्द सभी के अपने हैं
जीवन सुख दुःख और धूप छाव
जो पा जाएँ  उसे जी लें हम




  •  

                                         अंजू ……


       


10 comments to अहसास

  • कुछ अंतर्मन की पीडाएं

    अपने ही संग तो बांटे थे

    मुश्किल बस इतनी सी ही थी

    खुद अपनेआप न समझ सके

    You expressed emotions so beautifully….loved it

  • bahut sunder panktiya hain

  • कुछ अंतर्मन की पीडाएं

    अपने ही संग तो बांटे थे

    मुश्किल बस इतनी सी ही थी

    खुद अपनेआप न समझ सके

    behad sunder… ateet ko pakad lene ko haath uthne lage…

  • Kitne din baad aap mile hai…….new rediff main tou aap kho hee gaye the….ab naa khoiyegaa……
    pl be in touch

  • Adhron par jab khamoshi ho to aankhe bola karti hain … bahut khoob anju.. nice to read ur post…

  • A very nice poem combined with a beautiful pic …. loved reading ur poem….. keep sharing such good stuffs…

  • बहुत खूब अन्जू क्या बात है । काफी लम्बे समय के बाद मुलाकात हुई । ब्लोग बदलने के बाद काफी परेशानी हुई इसलीये ब्लोग तक नही पहुच पाया।

  • Alok kumar

    love u… visit -http://www.orkut.co.in/Main#Profile?rl=ls

  • apani hi vyatha may kyon ulze…….. kya baata hai. suunder lines, vaise to puri kavita bhaavanaon se ott-prot hai… but i liked this line.

Leave a Reply