rediff.com

Categories

A sample text widget

Etiam pulvinar consectetur dolor sed malesuada. Ut convallis euismod dolor nec pretium. Nunc ut tristique massa.

Nam sodales mi vitae dolor ullamcorper et vulputate enim accumsan. Morbi orci magna, tincidunt vitae molestie nec, molestie at mi. Nulla nulla lorem, suscipit in posuere in, interdum non magna.

Zindagi

जिंदगी……….
जिंदगी……….
जिंदगी हर मोड़ पर इक अजनबी सी लगी मुझे
हर पल साथ है फिर भी पराई सी लगी मुझे
पास आकर जब भी दूर होता गया वो पल
जिंदगी तेरी हर बात बेमानी सी लगी मुझे
सपनो की बात में सच को छू गया ये मन
सच सामने से गुज़रा तो बेगाना सा लगा मुझे
अपनों के साथ भी पराया सा सच
करीब आया तो पहेली सा लगा मुझे
मन के एक कोने में भटका हुआ सा मैं {अहम्}
कोशिश जब भी हुई बिखरा गया मुझे
रास्तों को तलाश रही मंजिलों की
अपनी ही तलाश में भटक गया मैं {अहम्}
अपनी भी अजीब ज़िद कि छू न सकू कभी तुझे
जाने क्यों तेरे होने का अहसास जगा गया मुझे
ए जिंदगी तू कितनी भी दूर चली जाए मगर
हरदम तेरे पास आने का इंतज़ार है मुझे …..

4 comments to Zindagi

  • simply amazing,
    dont find words to admire

  • लंबे अरसे बाद आपका ब्लॉग देख रहे हैं
    जिंदगी से अक्सर शिकायतें ही होती रही हैं
    आप तो अल्मोड़ा की खूबसूरत पहाड़ियों से और नैसर्गिक सुख से घिरी हैं
    इस उत्कृष्ट रचना के साथ कुछ ऐसा भी दीजिए जो हमे राह सुझाए

    एक खूबसूरत रचना के लिए … आभार …

  • jiwan k marm ko darrshan ki sagar-si gaharayi me utara hai aapane,bhavon ko shabdon me udel dena jas ka tas, berlon kaa hi kaam hai,ve Maa Sharda k vareny kripa punj hote hain.tabhi to aapane etane gahre bhavon ko sundar dhang se sajaya aur sanwara hai.rachana ko jo padhe use apane se bhav lagen, ye ek shresht rachanakar ki hi karamat hoti hai, nih-sandeh vo baat aap me hai.aapane us man kaa manthan kiya jo रास्तों को तलाश रही मंजिलों की,अपनी ही तलाश में भटक गया मैं {अहम्}….vakai kitani kadavi hakikat ko aapane etani sahajata se shabdon ki sarita me pravahman kiya hai.
    sath hi kavita ke aalok me aapne jiwan ke sakaratmak bhavon ko hamesha prajwalit rakhane ki prerana di hai…ए जिंदगी तू कितनी भी दूर चली जाए मगर, हरदम तेरे पास आने का इंतज़ार है मुझे …..atulniy or bejod kavita kaa lality rahasymayi sanketon ke sath prastut karate aap bilkul Mahadevi Verma ki yaad karva rahe hain…aapako es anupam rachana par kotisah badhai……
    Sadar
    Kim
    or [ haan bahut dinon bad es iland par aaya or aapki rachana tak pahunch kar achchha laga.....]

  • Anju ,,, I should say thanks to you for writing something ,,,, of course as usual i could not understand anything ,,,,, Once I will come to Almora n then make me understand all………. Ok ……

    Bahot sara pyar aur dhanyawad

    Dileep

Leave a Reply