rediff.com

Archive for November 24th, 2009

YEH VAADA RAHA

चलोसाथदीलबर, ऐसीवादियोंमें

जहांआसमानज़मीनकोचूमताहो,

पहाड़कापर्दाहो, कीकहींज़मीन शर्माजाये

औरहो हमऔर तूम, एकदूसरेकी बाँहों में

एक दूसरे को सम्हाले, चलेजारहे

अगरठोकरलगेतोमुजेसम्हालना तूम

अगर थकजाओतुमबाहों मेंउठालेंगेहम

और हम पारकरलेंगे यहसफ़रज़िंदगीका

हो साथ साथ अगर तुम और हम

मतबिछड़नाबीच रास्तेमें कहीं तूम

मत छोड़नाहाथकहीं बीचरास्ते में तूम

ऐसाकूछहोनेसेपहलेहीगूमहो जायेंगेहम

और अपनीनयीदूनीयामें खोजायेंगेहम

मैंबनजाऊँगाआसमान और ज़मीनतूम…….

…………………………………………aameen

28 Comments

Copyright © 2014 Rediff.com India Limited. All rights Reserved.  
Terms of Use  |   Disclaimer  |   Feedback  |   Advertise with us